मंगला गौरी उद्यापन | Mangala Gauri Vrat Udyapan
पृष्ठ संख्या ( १ / ४ )

मंगला गौरी व्रत का उद्यापन पाँचवें वर्ष में श्रावण शुक्ल पक्ष के मंगलवार को करना चाहिये। इस विधि से व्रत करने पर सात जन्मों तक सौभाग्य बना रहता है और पुत्र, पौत्र आदि के साथ सम्पदा विद्यमान रहती है।

मंगला गौरी उद्यापन पूजा सामग्री