In English     

धनतेरस (Dhanteras)

धनतेरस सुख-समृद्धि, यश और वैभव का पर्व माना जाता है। इस दिन धन के देवता कुबेर और आयुर्वेद के देव धन्वंतरि की पूजा का बड़ा महत्त्व है। हिन्दू पंचांग के अनुसार कार्तिक मास की त्रयोदशी तिथि को मनाए जाने वाले इस महापर्व के बारे में स्कन्द पुराण में लिखा है कि इसी दिन देवताओं के वैद्य धन्वंतरि अमृत कलश सहित सागर मंथन से प्रकट हुए थे, जिस कारण इस दिन धनतेरस के साथ-साथ धन्वंतरि जयंती भी मनाई जाती है। साल 2016 में धनतेरस का त्यौहार 27 अक्टूबर को मनाया जाएगा।

धनतेरस के दिन खरीददारी (Shoping on Dhanteras in Hindi)

यह नई चीजों के शुभ आगमन का दिन है, इस दिन मुख्य रूप से नए बर्तन या सोना-चांदी खरीदने की परंपरा है। चूंकि जन्म के समय धन्वंतरि जी के हाथों में अमृत का कलश था, इसलिए इस दिन बर्तन खरीदना अति शुभ माना जाता है। विशेषकर पीतल के बर्तन खरीदना बेहद शुभ माना जाता है।

Dhanteras ki Katha - धनतेरस की कथा - Dhanteras Story

shiv poojan vidhi in hindi

शास्त्रों के अनुसार धनतेरस के दिन ही भगवान धनवंतरी हाथों में स्वर्ण कलश लेकर सागर मंथन से उत्पन्न हुए। धनवंतरी ने कलश में भरे हुए अमृत से देवताओं को अमर बना दिया। धनवंतरी के उत्पन्न होने के दो दिनों बाद देवी लक्ष्मी प्रकट हुई। इसलिए दीपावली से दो दिन पहले धनतेरस का त्योहार मनाया जाता है। शास्त्रों के अनुसार भगवान धनवंतरी देवताओं के वैद्य हैं। इनकी भक्ति और पूजा से आरोग्य सुख यानी स्वास्थ्य लाभ मिलता है। मान्यता है कि भगवान धनवंतरी विष्णु के अंशावतार हैं। संसार में चिकित्सा विज्ञान के विस्तार और प्रसार के लिए ही भगवान विष्णु ने धनवंतरी का अवतार लिया था।

shiv poojan vidhi in hindi

धनतेरस से जुड़ी एक दूसरी कथा है कि कार्तिक कृष्ण त्रयोदशी के दिन देवताओं के कार्य में बाधा डालने के कारण भगवान विष्णु ने असुरों के गुरू शुक्राचार्य की एक आंख फोड़ दी थी। कथा के अनुसार, देवताओं को राजा बलि के भय से मुक्ति दिलाने के लिए भगवान विष्णु ने वामन अवतार लिया और राजा बलि के यज्ञ स्थल पर पहुंच गये। शुक्राचार्य ने वामन रूप में भी भगवान विष्णु को पहचान लिया और राजा बलि से आग्रह किया कि वामन कुछ भी मांगे उन्हें इंकार कर देना। वामन साक्षात भगवान विष्णु हैं। वो देवताओं की सहायता के लिए तुमसे सब कुछ छीनने आये हैं। बलि ने शुक्राचार्य की बात नहीं मानी। वामन भगवान द्वारा मांगी गयी तीन पग भूमि, दान करने के लिए कमण्डल से जल लेकर संकल्प लेने लगे। बलि को दान करने से रोकने के लिए शुक्राचार्य राजा बलि के कमण्डल में लघु रूप धारण करके प्रवेश कर गये। इससे कमण्डल से जल निकलने का मार्ग बंद हो गया। वामन भगवान शुक्रचार्य की चाल को समझ गये। भगवान वामन ने अपने हाथ में रखे हुए कुशा को कमण्डल में ऐसे रखा कि शुक्राचार्य की एक आंख फूट गयी। शुक्राचार्य छटपटाकर कमण्डल से निकल आये। बलि ने संकल्प लेकर तीन पग भूमि दान कर दिया। इसके बाद भगवान वामन ने अपने एक पैर से संपूर्ण पृथ्वी को नाप लिया और दूसरे पग से अंतरिक्ष को। तीसरा पग रखने के लिए कोई स्थान नहीं होने पर बलि ने अपना सिर वामन भगवान के चरणों में रख दिया। बलि दान में अपना सब कुछ गंवा बैठा। इस तरह बलि के भय से देवताओं को मुक्ति मिली और बलि ने जो धन-संपत्ति देवताओं से छीन ली थी उससे कई गुणा धन-संपत्ति देवताओं को मिल गयी। इस उपलक्ष्य में भी धनतेरस का त्योहार मनाया जाता है।

धनतेरस पूजन विधि (Dhanteras Puja Vidhi)

shiv shankar pooja vidhi

॥ इति धनतेरस पूजन ॥

Karva Chauth in English
( Karva Chauth Vrat Method, Karva Chauth Story, Ganesh Vinayak Story, Karva Chauth Ujman) करवा चौथ
(करवा चौथ व्रत विधि, करवा चौथ की कहानी, गणेश विनायक जी की कहानी, करवा चौथ उजमन)
Chitragupta Puja in English (Step by Step)
( Chitragupta Puja Vidhi, Chitragupta Puja katha, Hawan Vidhi, Chitragupta Aarti, Chitragupta Stuti)
चित्रगुप्त पुजा
(चित्रगुप्त पुजा विधि, चित्रगुप्त पुजा कथा, हवन विधि, आरती श्री चित्रगुप्त जी की, श्री चित्रगुप्त जी की स्तुति) 16 Monday Fast in English
(16 Monday Fast Method, Pujan Samagri, Imporatance of fast, Vrat Katha and Aarti)
सोलह सोमवार व्रत विधि
(सोलह सोमवार व्रत विधि, पूजा सामग्री, व्रत का महत्व, व्रत कथा एवं आरती ) Monday Fast in English
( Monday Fast Method, Pujan Samagri, Imporatance of fast, Vrat Katha and Aarti)
सोमवार व्रत विधि
(सोमवार व्रत विधि, पूजा सामग्री, व्रत का महत्व, व्रत कथा एवं आरती ) Tuesday Fast Vrat Vidhi in English
(Tuesday Fast method, pujan samagree, Importance of Tuesday fast, For the peace of Mars planet and Arti)
मंगलवार व्रत विधि
(मंगलवार व्रत विधि, पूजा की सामग्री, मंगल ग्रह की शांति, आरती एवं कथा ) Wednesday Fast Method in English
(Wednesday Fast Method, Pujan Samagri, Imporatance of fast, Vrat Katha and Aarti)
बुद्धवार व्रत विधि
(बुद्धवार व्रत विधि, बुद्धवार पूजा सामग्री, बुद्धवार व्रत का महत्व, बुद्धवार व्रत कथा एवं आरती ) Thursday Fast in English
(Thursday Fast Method, Thursday Fast Pujan Samagri, Thursday Imporatance of fast, Thursday Vrat Katha and Aarti)
बृहस्पतिवार व्रत विधि
(बृहस्पतिवार व्रत विधि, बृहस्पतिवार पूजा सामग्री, बृहस्पतिवार व्रत का महत्व, बृहस्पतिवार व्रत कथा एवं आरती) Friday Fast in English
(Friday Fast Method, Friday Pujan Samagri, Friday Imporatance of fast, Friday Vrat Katha and Aarti)
शुक्रवार व्रत विधि
(शुक्रवार व्रत विधि, शुक्रवार पूजा सामग्री, शुक्रवार व्रत का महत्व, शुक्रवार व्रत कथा एवं आरती) Sataurday Fast in English
(Sataurday Fast Method, Sataurday Pujan Samagri, Sataurday Imporatance of fast, Sataurday Vrat Katha and Aarti)
शनिवार व्रत विधि
(शनिवार व्रत विधि, शनिवार पूजा सामग्री, शनिवार व्रत का महत्व, शनिवार व्रत कथा एवं आरती) Sunday Fast in English
(Sunday Fast Method, Sunday Pujan Samagri, Sunday Imporatance of fast, Sunday Vrat Katha and Aarti)
रविवार व्रत विधि
(रविवार व्रत विधि, रविवार पूजा सामग्री, रविवार व्रत का महत्व, रविवार व्रत कथा एवं आरती)