वैभव लक्ष्मी कथा क्रमश:...

माँ लक्ष्मी जी के बहुत स्वरूप हैं। और माँ लक्ष्मी जी को ‘श्रीयंत्र’ अति प्रिय है। अतः ‘वैभवलक्ष्मी’ में पूजन विधि करते वक्त सर्वप्रथम ‘श्रीयंत्र’ और लक्ष्मी जी के विविध स्वरूपों का सच्चे दिल से दर्शन करो। उसके बाद ‘लक्ष्मी स्तवन’ का पाठ करो। बाद में कटोरी में रखे हुए गहने या रुपये को हल्दी-कुमकुम और चावल चढ़ाकर पूजा करो और लाल रंग का फूल चढ़ाओ। शाम को कोई मीठी चीज बना कर उसका प्रसाद रखो। न हो सके तो शक्कर या गुड़ भी चल सकता है। फिर आरती करके ग्यारह बार सच्चे हृदय से ‘जय माँ लक्ष्मी’ बोलो। बाद में ग्यारह या इक्कीस शुक्रवार यह व्रत करने का दृढ़ संकल्प माँ के सामने करो और आपकी जो मनोकामना हो वह पूरी करने को माँ लक्ष्मी जी से विनती करो। फिर माँ का प्रसाद बाँट दो।
और थोड़ा प्रसाद अपने लिए रख लो। अगर आप में शक्ति हो तो सारा दिन उपवास रखो और सिर्फ प्रसाद खा कर शुक्रवार का व्रत करो। न शक्ति हो तो एक बार शाम को प्रसाद ग्रहण करते समय खाना खा लो। अगर थोड़ी शक्ति भी न हो तो दो बार भोजन कर सकते हैं। बाद में कटोरी में रखा गहना या रुपया ले लो। कलश का पानी तुलसी की क्यारी में डाल दो और चावल पक्षियों को डाल दो। इसी तरह शास्त्रीय विधि से व्रत करने से उसका फल अवश्य मिलता है। इस व्रत के प्रभाव से सब प्रकार की विपत्ति दूर हो कर आदमी मालामाल हो जाता हैं संतान न हो तो संतान प्राप्ति होती है। सौ

Vaibhav Laxmi Katha Continue..

There are many forms of Maa Laxmi Ji. And ‘Sri Yantra’ is most favourite of Maa Laxmi. So, do remeberance of all forms of Maa laxmi and Sri Yantra during the worship proccedure of “vaibhavlaxmi” . After that read “Laxmi Stvan”. Then do the worship of ornaments with turmeriv, kumkum, flower and akshat.Offer any sweet dish as a prasad. Shakkar and molasses can also used as a prasad. After that do aarati and chant “Jay Maa Laxmi” eleven times. After that you have to take sankalp that you will keep fast on eleven or twenty one Friday and request Maa laxmi to fulfilled your wish. After that distribute prasad.
And keep little for yourself. If you have capacity then only eat prasad during vrat. If you could not keep fast for whole day then take food with prassad. If you are very weak then you can eat food twice in a day. Later, take ornaments or coin from bowl. Pour the kalassh’s water in tulsi’s tree and keep rice for birds. Those people who keep this fast like mentioned ritual process then they wil difinately get result. People get rich and reliev from problems with the effect of this vrat. People also blessed with child.