वैभव लक्ष्मी कथा क्रमश:

शीला की गृहस्थी इसी तरह खुशी-खुशी चल रही थी। पर कहा जाता है कि ‘कर्म की गति अटल है’, विधाता के लिखे लेख कोई नहीं समझ सकता है। इन्सान का नसीब पल भर में राजा को रंक बना देता है और रंक को राजा। शीला के पति को पूर्व जन्म के कर्म भोगने बाकी रह गये होंगे कि वह बुरे लोगों से दोस्ती कर बैठा। वह जल्द से जल्द करोड़पति होने के ख्वाब देखने लगा। इसलिए वह गलत रास्ते पर चल निकला और करोड़पति के बजाय रोड़पति बन गया। यानि रास्ते पर भटकते भिखारी जैसी उसकी स्थिति हो गयी थी।
शहर में शराब, जुआ, रेस, चरस-गांजा आदि बदियां फैली हुई थीं। उसमें शीला का पति भी फँस गया। दोस्तों के साथ उसे भी शराब की आदत हो गई। जल्द से जल्द पैसे वाला बनने की लालच में दोस्तों के साथ रेस जुआ भी खेलने लगा। इस तरह बचाई हुई धनराशि, पत्नी के गहने, सब कुछ रेस-जुए में गँवा दिया था।

Vaibhav Laxmi Katha Continue...

There was a happy household of Sheela. But, it is said that “speed of action is adamant”, No one can understands God’s article. People’s fate can make them king to beggar in a second and beggar to king. Sheela’s husband had to suffer with his previous life’s action, so, he had friendship with evil person. He starts to dream to be reaching very quickly. So, he did wrong things and became poor instead of get rich. It means his condition was like a beggar.
All the evil activity aroused in the city like beer, race, gambling etc. He also became alcoholic. And start to involve gambling and racing to get reached very quickly. He lost his all money, wife’s ornaments in all such type of evil works