फागुन कृष्ण पक्ष चतुर्थी “हेरम्ब स्वरूप पूजा विधि एवं कथा - ३ फरवरी २०१८ (शनिवार)

प्रत्येक मास के दोनों पक्षों की चतुर्थी तिथि को गणेश जी का पूजन किया जाता है। शुक्ल-पक्ष की चतुर्थी को विनायक चतुर्थी और कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को संकष्टी चतुर्थी कहलाती है। फाल्गुन मास की संकष्टी चतुर्थी ३ फरवरी, २०१८ को है। संकष्टी चतुर्थी का व्रत करने से सभी विघ्न बाधायें दूर होती है।

पूजन सामग्री:-

गणेश जी की प्रतिमा
धूप
दीप
नैवेद्य(लड्डु तथा अन्य ऋतुफल)
अक्षत
फूल
कलश
चंदन केसरिया
रोली
कपूर
दुर्वा
पंचमेवा
गंगाजल
वस्त्र( 2 – एक कलश के लिये- एक गणेश जी के लिये)
अक्षत
घी

हवन के लिये:-

खीर
कनेर के फूल
गुलबांस की लकड़ी

फाल्गुन मास चतुर्थी पूजन विधि:-

प्रात: काल उठकर नित्य कर्म से निवृत हो, शुद्ध हो कर स्वच्छ वस्त्र धारण कर लें। श्री गणेश जी का पूजन पंचोपचार (धूप,दीप, नैवेद्य,अक्षत,फूल) विधि से करें। इसके बाद हाथ में जल तथा दूर्वा लेकर मन-ही-मन श्री गणेश का ध्यान करते हुये निम्न मंत्र के द्वारा व्रत का संकल्प करें:-
"मम सर्वकर्मसिद्धये सिद्धिविनायक पूजनमहं करिष्ये"