वैशाख शुक्ला स्कंद-षष्ठी पुजा विधि एवं कथा । skanda sashti puja vidhi

वैशाख शुक्ला षष्ठी को कार्तिकेयजी रूप की पूजा करने से स्त्रियों को मातृसुख लाभ करता है। वैशाख शुक्ला षष्ठी २१ अप्रैल (शनिवार) २०१८ को हैं

वैशाख शुक्ला स्कंद-षष्ठी पुजा विधि

इस तिथि को व्रत कर घृत, दही जल और पुष्पों से स्वामी कार्तिकेय को दक्षिण की ओर मुख करके अर्घ्य देना चाहिये

अर्घ्य के बाद विधिपूर्वक स्कंद भगवान की पूजा करें। तत्पश्चात् दोनों हाथ जोड़कर निम्न प्रकार से भगवान कार्तिकेय की स्तुति करें:-

जो व्यक्ति स्वामी कार्तिकेय के उपर्युक्त गुणनामपूर्ण स्तोत्र का पाठ करता है, उसके घर में बच्चों का सदा कल्याण होता है और वे नीरोग रहते हैं।

स्कंद षष्ठी महात्म्य:-