रोटक व्रत विधि तथा महात्म्य | Rotak Vrat Vidhi

श्रावण मास में जब प्रतिपदा तिथि को सोमवार हो तो उस महीने में पाँच सोमवार पड़ते हैं। उस श्रावण मास में रोटक व्रत किया जाता है। यह व्रत लक्ष्मी की वृद्धि करनेवाला तथा सभी मनोरथों की सिद्धि करनेवाला है। इस व्रत के करने से मनुष्य की सभी मनोकामनायें पूर्ण होती है।

रोटक व्रत विधि तथा महात्म्य:-

॥ इति ॥