मंगलागौरीपाठ के लाभ | Mangala Gauri Benefits

√ शीघ्र विवाह के लिये ।
√ दाम्पत्य जीवन में पारस्परिक प्रेम बनाये रखने के लिये।
√ जिनकी कुण्डली में मांगलिक दोष हो।
√ शनि ग्रह के निवारण हेतु।
√ संतान सुख के लिये।
√ सौभाग्य के लिये।
√ मकान या वाहन खरीदने और बेचने के लिये।

सबसे पहले श्री गणपति जी की आरती करें।

आरती श्री गणपति जी की

शंकर सुवन भवानी नंदन। मेरा बार –बार प्रणाम।
करो मेरे गणपति जी सिद्ध काम॥
ऋद्धि सिद्धि अंग विराजे। विघ्न हरण धन धाम॥
करो मेरे गणपति जी सिद्ध काम॥
विद्या बुद्धि भक्ति दीजो। दीजो मन विश्राम॥
करो मेरे गणपति जी सिद्ध काम॥
मांगत हैं हम हाथ जोड़कर। दर्शन दो घनश्याम॥
करो मेरे गणपति जी सिद्ध काम॥
॥इति आरती गणपति जी की॥
मंगला गौरी पाठ प्रारम्भ
कलि-काल कराल में-जनहित उतरि आय।
पाप नशावै सुख करै- मंगला गौरी मांय॥
सात समुद्र भू भाग में- आठवीं वैतरणी धार।
भक्तों की नाव लगावती-मंगला गौरी पार॥
सतयुग में उत्पन्न हुई- त्रेता मर्यादा पाली।
द्वापर योग माया बनी- कलियुग मंगला काली॥
मंगला गौरी ममता मई-माया मोह विस्तारी।
धरणी गगन पाताल में- मंगला मां प्रचारी॥
स्वर व्यंजन बिन्दु मात्रा-शब्द भेद प्रमाण।
कंठ तालु जिह्वा अधर-मंगला गौरी ज्ञान॥
स्थावर जंगम चर अचर- सृष्टि की जड़ मूल।
विश्व का संचालनकरै-मंगला गौरी अनुकूल॥
दूध दही भात घृत मधु-मोदक मोहन भोग।
प्रेम सहित अर्पण करै-मंगला गौरी योग॥
स्वर्ण सिंहासन राजती –चंवर व्यंजन सेवकाई।
अष्ट लड़ी सिर मुकुट धर-मंगला गौरी हर्षाई॥

चौपाई पाठ

जय जय श्री मंगला गौरी।
तुम्हें मनावैं चन्द्रमा सौरी॥
भूमि सूत मंगल की पुत्री।
गगन फोड़कर स्वर्ग से उतरी॥
कैलाश हिमालय घूमती फिरती।
गुण सुगन्ध औषधि में भरती॥
पाताल लोक की बनी निवासी।
नाग नागनी दास अरु दासी॥
मणी कणी नग रत्न सुहासी।
हीरे पन्ने चमक प्रकाशी॥
कानन कुण्डल सजे सुख राशी।
लाल लालड़ी लसैं बारां मासी॥
धर्म कर्म की तन पहरी चोली।
चंद्र किरण सी मस्तक रोली॥
लता बेल फल फूल भरी झोली।
नक्षत्र तारे बेणी की मौली।
सुहाग भाग की नाथ संजोली।
गंग नीर में चुनड़ी धौली॥
गंगा यमुना गले की माला।
सात समुंदर झलकत भाला॥
बंगाल बिहार घूमकर आई।
हरियाणे में बड़ी सजी सजाई॥
खेत खलियान देखकर आती।
फिर मन्डी में शोभा पाती॥
मंगला गौरी चढ़ी चित्ते पर।
दया दृष्टि हारे जीते पर॥
स्वर्ण सिंहासन शोभा पावै।
वायु व्यंजन करी चंवर ढ़ुलावै॥
इन्द्र धनुष का शस्त्र धारै।
भक्त हेतु दुष्टों को मारै॥
‘जयन्ती’ बन कर विजय दिलाती।
अड़े काम को स्वयं बनाती॥
‘काली’ बनकर संहार कराती।
दैत्य वंश को खोज मिटाती॥
‘भद्रकाली’ कल्याण कराए।
ऋद्धि सिद्धि घर में आए॥
‘कपाल मोचनी’ ज्ञान बढ़ाए।
मुक्ति मार्ग स्वत: सुझाए॥
‘दुर्गा’ बन कर दुर्ग बसा दे।
भूले भटके को राह दिखा दे॥
‘क्षमा’ याचना भय दोष मिटा दे।
पाप मिटाकर पुण्य बढ़ा दे॥
‘शिवा’ सहारा दुखी दीन का।
भाग जगा दे कर्म हीन का॥
‘धात्री’ बनकर भाग जगाती।

मंगला गौरी मंगल गाती॥
चुनाव विजय मंगला करवावै।
गौरी युद्ध में फतह दिलावै॥
मंगलवार को मंगला गौरी।
पाठ करे जो छोरा छोरी॥
उस पर प्रसन्न मंगला होई।
तुरंत जगा दे किस्मत सोई॥
मंगला पाठ करे छात्र।
परीक्षा पास करै मां आतुर॥
अविवाहित का ब्याह रचावै।
उजड़े घर को पुन: बसावै॥
सुहाग मांग कन्या की भरवावै।
मन अनुकुल पति घर पावै॥
भूखे नर की भूख मिटावै।
दुखिया के दुख आप हटावै॥
परदेश गए को तुरंत बुलावै।
जो मंगला का पाठ करावै ॥
विधि पूर्वक अनुष्ठान कराओ।
दहनी कोख में गर्भ भराओ॥
मंगला गौरी मंगल करणी।
भगत जनों के संकट हरणी॥
मंगल ग्रह को मंगला उतारै।
शनि नजर से गौरी उभारै॥
कृष्ण दत्त ग्रह गणित विचारै।
मंगला गौरी ह्रदय में धारै।

मंगला अष्टक योग

अथ: मंगलाष्टक श्लोक पाठ

॥इति मंगला गौरी पाठ सम्पूर्णम्॥

आरती मंगला गौरी की

॥जानकारी॥