विवाह में गठबंधन और गठबंधन में रखे गये सामानों का महत्त्व

विवाह में गठबंधन एक महत्त्वपूर्ण विधि है। इसके बिना कोई भी विवाह सम्पन्न नहीं होता है। पाणिग्रहण के बाद वर के कंधे पर रखे हुये पीले दुपट्टे या धोती के एक छोर को वधू की साड़ी या चुनरी के एक छोर के साथ बाँध दिया जाता है। इसका अर्थ है कि विवाह के बाद से वर-वधू एक ईकाई के रूप में हो गये। दोनों के सुख, दु:ख, आशा, लक्ष्य, सम्बंध आज से एक है। दोनों एक-दूसरे के पूरक माने गये हैं।
गठबंधन में वर और वधू के पल्ले को एक साथ लेकर बीच में सिक्का, पुष्प, दूर्वा, हल्दी और अक्षत रखकर बाँधा जाता है। गठबंधन में इन पाँचों चीजों को अलग-अलग महत्त्व बताया गया है:-

1. सिक्का (धन)

2. पुष्प

3. दूर्वा

4. हल्दी

5. अक्षत (अन्नपूर्णा)

॥ इति ॥