गाज माता का व्रत | Gaqaj Mata Vrat

गाज माता का व्रत तथा पूजन भाद्र मास के किसी भी शुभ तिथि को कर सकते हैं। यदि किसी के घर में पुत्र-जन्म या पुत्र का विवाह होता है तो उस वर्ष भाद्र मास में इस व्रत का उजमन भी किया जाता है। यह व्रत स्त्रियाँ अपने संतान की लम्बी आयु तथा सुख के लिये करती हैं।
पूजन सामग्री:-
एक लोटा,
गेहूँ के दाने,
पूड़ी,
हलवा