फाल्गुन मास के शुक्ल पक्ष विधि एवं कथा । skanda sashti puja vidhi

फाल्गुन मास के शुक्ल पक्ष की षष्ठी को विधिपूर्वक भगवान पशुपति की मृण्मयी मूर्ति बनाकर विविध उपचारों से उनकी पूजा करें। शतरुद्री के मंत्रों से पृथक-पृथक पंचामृत एवं जल द्वारा स्नान कराकर श्वेत चंदन अर्पित करें; फिर अक्षत, सफेद फूल, विल्वपत्र, धतूरे के फूल, अनेक प्रकार के फल और भली-भाँति पूजा करके विधिवत आरती करें। तदनन्तर क्षमा-प्रार्थना करके प्रणामपूर्वक उन्हें कैलास के लिये विसर्जन करें। जो स्त्री अथवा पुरुष इस प्रकार भगवान शिवकी पूजा करते हैं, वे इस लोक में श्रेष्ठ भोगों का उपभोग करके अंत में भगवान शिव के स्वरूप को प्राप्त करते हैं। फाल्गुन मास के शुक्ल पक्ष की षष्ठी १२ मार्च (मंगलवार) २०१९. को है।