आषाढ़ शुक्ल षष्ठी पुजा विधि एवं कथा । skanda sashti puja vidhi

आषाढ़ शुक्ल षष्ठी को परम उत्तम ‘स्कन्दव्रत’ करना चाहिये। उस दिन उपवास करके कार्तिकेय जी की शिव तथा पार्वती के पुत्र स्कंदजी के रूप में करनी चाहिये। इससे मनुष्य पुत्र-पौत्रादि, संतानों एवं मन के अनुरूप फलों को प्राप्त कर लेता है । आषाढ़ शुक्ल षष्ठी १७ जुलाई (मंगलवार) २०१८ को है।